अध्यात्म की राह पकड़ने वाला सभी प्रकार के दुखों से छूट जाता है: श्री – श्री 108 स्वामी सिकंदर जी महाराज

जालंधर (विनोद मरवाहा)
कहते हैं कि जीवन के सारे दुख इस संसार से जुड़े हैं लेकिन यह भी सच है कि जो अध्यात्म की राह पकड़ लेता है, वह दुखों से छूट जाता है।
उक्तआशीर्वचन अखिल भारतीय दुर्गा सेना संगठन की तरफ से श्री प्राचीन शिव मंदिर, दोमोरिया पुल में आयोजित साप्ताहिक मां बगलामुखी हवन यज्ञ के दौरान श्री – श्री 108 स्वामी सिकंदर जी महाराज ने कहे। श्री स्वामी जी ने कहा कि अध्यात्म से जिस परम शक्ति तक पहुंचा जा सकता है, वह सब ओर व्याप्त ही नहीं है, बल्कि हमारे अंदर भी छिपी हुई है। इस सच को जानने पर हम उसे पाने की चेष्टा कर सकते हैं। इसके लिए वानप्रस्थ की जरूरत नहीं है, न ही घंटों की साधना जरूरी है। जरूरी है कि हम अपने प्रति ईमानदार हों।
श्री स्वामी जी ने कहा कि मानव शरीर हमें भजन, कीर्तन, सत्संग और अध्यात्म की राह पर चलने के लिए मिला है। मनुष्य आज इन सभी से दूर होकर मांस, मछली, अंडे, शराब और व्यसनों में लिप्त होकर अपने धर्म, कर्म और भक्ति से दूर होता जा रहा है। मानव शरीर हमें ईश्वर और गुरु की साधना के लिए मिला है। ईश्वर और गुरु की साधना करना तभी संभव है, जब हम इन सभी व्यसनों को त्यागकर अध्यात्म की राह पर चलें।
इस मोके पर विशेष रूप से उपस्थित गुरु मां नीरज रत्न सिकंदर जी ने सभी साधकों को आशीर्वाद देते हुए अध्यात्म की राह पर चलने के लिए भी प्रेरित किया।


इस मोके इस अवसर पर संगठन के पंजाब प्रधान विशाल शर्मा, जिला प्रधान वैभव शर्मा सहित कुलभूषण धवन, ममता राज, प्रमोद मरवाहा, राकेश महाजन, लीना महाजन, विशाल कुंद्रा, प्रिंस अरोड़ा, प्रशांत जग्गी, ब्रिज मोहन, राजिंदर प्रभाकर, शैली शर्मा, दीपिका कोहली, पियूष खन्ना, राजन खन्ना, पूजा शर्मा, नरेश दास ,रूपेश कुमार शर्मा, चंद्र गोस्वामी, कमलेश्वर ठाकुर,मंजू जायसवाल, सुनीता गुप्ता ,मालती गुप्ता ,दीपा जयसवाल ,मुन्नी श्रीवास्तव ,पूनम जयसवाल, शिव देवी, कमला खरबंदा, मोहित जैन, रमेश कपूर, राजेश सेठ, दमन कपूर, अश्वनी मल्होत्रा, सुरेश खुराना, पंकज सिक्का, अश्वनी कपूर, दीपक कुमार, विनय शर्मा, मोनिका शर्मा, राजू शर्मा, मोहित सिक्का, सुरिंदर भगत, आशु शर्मा, साहिल वर्मा, धीरज पाहवा, करण वर्मा, नरेश मौदगिल आदि के नाम उल्लेखनीय हैं।

Please select a YouTube embed to display.

The request cannot be completed because you have exceeded your quota.