अब देश हित में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की एक और अनूठी पहल

जालंधर(हलचल नेटवर्क)
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) बच्चों को सेना में ऑफिसर बनने की ट्रेनिंग देगा। इसके लिए अगले साल अप्रैल से पहला सैनिक स्कूल खोलने की तैयारी है। संघ की अपनी तरह की इस अनूठी पहल को पूर्व सरसंघचालक राजेंद्र सिंह उर्फ रज्जू भैया के नाम पर समर्पित किया जाएगा। रज्जू भैया का जन्म यूपी के बुलंदशहर में हुआ था और पहला सैनिक स्कूल इसी जिले के शिकारपुर में खुलेगा। नाम होगा, रज्जू भैया सैनिक विद्या मंदिर। संघ की शैक्षणिक शाखा विद्याभारती के पास स्कूल की जिम्मेदारी होगी। विद्या भारती उच्च शिक्षा संस्थान के वेस्ट यूपी और उत्तराखंड के क्षेत्रीय संयोजक अजय गोयल का कहना था कि आगे दूसरी जगहों पर भी यह प्रयोग आजमाया जा सकता है।
इस स्कूल में CBSE का सिलेबस होगा। 6 से 12वीं तक की कक्षाएं चलेंगी। पहली बैच के लिए प्रस्पेक्टस तैयार है। अगले महीने से आवेदन मांगे जाएंगे। स्कूल के लिए पूर्व सैनिक राजपाल सिंह ने जमीन दान की है।
अगले साल अप्रैल से बुलंदशहर में खुलेगा आरएसएस का पहला सैनिक स्कूल
इसी मॉडल पर नासिक में भोंसला मिलिट्री स्कूल चलता है। इसकी स्थापना 1937 में संघ के संस्थापक के.बी. हेडगवार के मेंटर बी.एस. मूंज ने की थी। हालांकि संघ सीधे तौर पर संचालन से नहीं जुड़ा है।• 20 हजार वर्गमीटर में हो रहा स्कूल का निर्माण, 40 करोड़ लागत का अनुमान• 160 स्टूडेंट्स होंगे क्लास 6 की पहली बैच में, शहीदों के बच्चों के लिए 56 सीटें रिजर्व रहेंगी।