क्रोध वह अग्नि है जो स्वयं को जलाती है :श्री-श्री 108 स्वामी सिकंदर जी महाराज

जालंधर(विशाल कोहली)
अखिल भारतीय दुर्गा सेना संगठन(रजि.) की तरफ से साप्ताहिक मां बगलामुखी हवन यज्ञ का आयोजन प्राचीन शिव मंदिर, दोमोरिया पुल में किया गया। श्री दुर्गा सेना संगठन के अध्यक्ष श्री-श्री 108 स्वामी सिकंदर जी महाराज की अध्यक्षता व गुरु मां नीरज रतन सिकंदर जी केसानिध्य में आयोजित हवन यज्ञ के दौरान भक्तों ने हवन यज्ञ में पावन आहुतियां डाल मां बगलामुखी जी का आशीर्वाद प्राप्त किया।
इस अवसर पर श्री-श्री 108 स्वामी सिकंदर जी महाराज ने कहा कि क्रोध सबका शत्रु है। क्रोधी खुद तो जलता ही है और जिस पर क्रोध करता है उसे भी जलाता है। क्रोध के चंगुल से बचना आवश्‍यक है क्‍योंकि क्रोध वह अग्नि है जो स्वयं को जलाती है। उन्होंने कहा कि क्रोध व्यक्ति को विवेकहीन बना देता है और क्रोध में मनुष्य न करने योग्य कार्य करने को तैयार हो जाता है। क्रोध के आवेग में मनुष्य गुरुजनों का अनादर भी कर देता है। क्रोध वह विष है जो स्वयं को नष्ट कर देता है। श्री स्वामी जी के अनुसार जब क्रोध शांत हो जाता है तब समझ में आता है कि मैंने बहुत गलत किया है। इसलिए क्रोध के निमित्त मिलने पर क्रोध नहीं करना चाहिए। मनुष्य को क्षमा भाव धारण करना चाहिए।


इस अवसर पर संगठन के पंजाब प्रधान विशाल शर्मा, जालंधर प्रधान वैभव शर्मा, ब्रिज रानी, बाबा जी, चन्दर जैन, लक्ष्मी शर्मा, तीर निशाने ते के मुख्य संपादक राकेश महाजन, लीना महाजन, नरेश दास रूपेश कुमार शर्मा, दुलाल चंद्र गोस्वामी, पंचानंद मंडल, सुदर्शन चंद्रपाल, रामजी प्रसाद, प्रतीम दास, गोविंद दास,पूजा शर्मा, परवीन हांडा, अरुण शर्मा, सत्य नारायण, कोमल, महक, राकेश जैन, केवल कृष्ण, शालू छाबड़ा, राज कुमार वर्मा, सुरिंदर भगत, आशु शर्मा, साहिल वर्मा, धीरज पाहवा, करण वर्मा, नरेश मौदगिल, अश्वनी कपूर, राजेश सेठ, मोहित जैन, कृष्ण कुमार, अशोक चड्डा, रमेश कपूर, अश्वनी मल्होत्रा, दमन कपूर, दीपक कुमार, जसपाल भाटिया, अमन शर्मा , निखिल मित्तल, रमेश अश्वनी मल्होत्रा, सुरेश खुराना, पंकज सिक्का, राजू लूथरा, सौरभ शर्मा, राजेश भारद्वाज, विनय शर्मा, मोनिका शर्मा, राजू शर्मा, मोहित सिक्का, अमर सिंह, सोहन सिंह, राजदीप सिंह, अनूप गुप्ता, मनोहर लाल आदि के नाम उल्लेखनीय हैं।