गरीब रथ में बेडरोल लेना जरूरी,अन्य ट्रेनों की तरह किराए में शामिल होगा चार्ज, जानें कब से लागू होगी नई व्यवस्था

जालंधर(योगेश कत्याल)
ट्रेन के एसी कोच में बेडरोल की चोरी की होने की घटनाओं को देखते हुए रेलवे ने कुछ नए बदलाव किए हैं। दुरंतो और अन्य मेल एक्सप्रेस ट्रेनों की तरह अब गरीब रथ में भी यात्रियों के लिए बेडरोल को जरूरी कर दिया गया है। बेडरोल का शुल्क किराए के संग ही शामिल होगा। यात्री को इसके लिए 25 रुपये चुकाने होंगे। इसका शुल्क अब किराए में शामिल होगा। रेलवे ने आमतौर पर ट्रेनों में यात्री की सुविधा के लिए बेडरोल मुहैया कराता है। यात्री से किराए संग इसका शुल्क भी लेता है पर गरीब रथ ट्रेन ऐसी है जिसमें बेडरोल यात्री की इन्छा पर शुल्क लेने का नियम है। दरअसल यह इसमें यात्री की इच्छा पर निर्भर है कि वह बेडरोल ले या न लें। गरीब रथ में बेडरोल के नाम पर यात्रियों से बेहिसाब वसूली भी हो रही थी। इसका रेलवे को सीधा नुकसान हो रहा था।
व्यवस्था 15 मई से शुरू होगी :
बोर्ड ने धांधली को रोकने के लिए यात्रियों के लिए बेडरोल जरूरी करते हुए इसे किराए में जोड़ने का प्रावधान किया है। जानकारों की माने तो रेलवे ने क्रिस को साफ्टवेयर को अपडेट करने के साथ विभाग को ट्रेन के कुछ कोच में सीट कम कर बेडरोल के लिए जगह बनाने को कहा है।