जालंधर में हाशिये पर मौजूद नेताओं का वजूद तलाशती आम आदमी पार्टी

जालंधर(हलचल विशेष)
जालंधर की सभी विधान सभा सीटों में अपना राजनैतिक वजूद तलाश रही आम आदमी पार्टी को जमीनी नेता ढूढ़े से भी नहीं मिल रहे। मिली जानकारी के अनुसार 2022 के विधानसभा चुनाव में जालंधर की सभी विधान सभा सीटों पर चुनाव लड़े जाने का फैसला आम आदमी पार्टी ने किया है। बेशक चुनाव अगले साल होने हैं लेकिन दिल्ली में बैठे सीनियरआप नेता यहाँ की राजनैतिक जमीन को जालंधर के सभी कांग्रेसी विधायकों के खिलाफ खड़ा करने की कोशिश में अभी से जुट गए हैं।
दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार का मॉडल पंजाब में लागू करने के लिए आप लगातार कोशिश तो कर रही है लेकिन पंजाब विशेष कर जालंधर की जनता का हमेशा से ही अकाली दल, बीजेपी और कांग्रेस सहित तीनों राजनैतिक दलों के आलावा अभी तक किसी पर भी भरोसा कायम नहीं हुआ है। जालंधर का राजनैतिक समीकरण बताता है यहाँ पर विकास के नाम पर काम करने वालो को जनता विधानसभा चुनावों में वोट देती आई है। राजनैतिक क्षेत्रों में इस बात की भी चर्चा जोर पकड़ती नजर आ रही है कि 2022 का विधानसभा चुनाव पूरे पंजाब में विकास के मुद्दे पर लड़ा जाना है। ऐसे में आप पार्टी किसका समीकरण बिगड़ेगी ये तो अभी भविष्य के गर्भ में छुपा हुआ है लेकिन जालंधर में आप के पास राजनैतिक चेहरों का टोटा जरूर पड़ेगा। राजनैतिक पंडितों की मानें तो आप उन मोहरो पर अपना लगाकर चुनाव में जीत का सपना सजो रही है जो बीजेपी, कांग्रेस व अकाली दल में हाशिये पर है। उनके सहारे जालंधर की सियासत में राजनैतिक जमीन को तैयार करना आप की सबसे बड़ी भूल के रूप में देखा जा सकता है ।