“डायबिटीज फ्री वर्लड” व इवा हस्पताल द्वारा आयोजित इनफर्टिलटी-सेमिनार में, 70 डॉक्टर्स ने भाग लिया

लुधियाना(राजन मेहरा)
डायबिटीज फ्री वर्ल्ड एनजीओ व इवा हस्पताल द्वारा होटल महाराजा रिजैंसी में इनफर्टिलटी सेमिनार का आयोजन किया गया जिसमें 70 से अधिक डॉक्टरों ने भाग लिया। विख्यात एंडोक्रिनोलोजिस्ट डॉक्टर परमिंदर सिंह,डा शिवानी व डा तनवीर भुटानी मुख्य वक्ता के रूप में शामिल हुए। जब के डॉ सुरेंद्र गुप्ता ने कार्यक्रम का सँचालन किया। पंजाब मेडिकल काउंसिल के मेंबर डॉक्टर मनोज सोबती डॉक्टर कर्मवीर गोयल ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। डा सुरेंद्र गुप्ता व डा इन्दर शर्मा के इलावा डा अविनाश जींदल SMO, डा सुनील कत्याल IMA President, डा बिमल कानिष Vice President, डा धीरज अग्रवाल Secretary, डा सरोज अग्रवाल President Elect2021, डा सुनीता गोयल, डा वीनस व डा विकास बाँसल, डा सुमन व डा नितिन सेठी, हृदय विशेषज्ञ डा अभिषेक गोयल, डा सारिका व डा हरमन सोबती, डा नीरु जिँदल, डा राकेश मित्तल, डा राहुल जैन, डा विशाल शर्मा, डा डॉक्टर रमन शर्मा, डॉ ऋतु व डॉक्टर सुनील शर्मा, डॉक्टर मिसेज शिवानी व डा दीपक भाटीया, डॉक्टर अमित खन्ना, डॉक्टर ईश हाँडा ने अपनी उपस्थिति दर्ज की। कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए डॉ सुरेंद्र गुप्ता ने कहा कि मौजूदा दौर में शादीशुदा युवा-जोडों में इनफर्टिलटी, ऐक बहुत बडी स्मस्या बन कर मूँह बाँऐं खडी है। भले इसके लिये इनवायरनमैंटल अथवा जीवणशैली सँबँधित विकृतियाँ ही इसका मुख्य कारण हों। लेकिन हमेः समय रहते इसकी सुगम व सफल इलाज विधी प्रचलित करनी होगी।


डा शिवानी व डा तनवीर भुटानी ने इवा हस्पताल में नवीनतम् तकनीक वारा किये जा रहे आई वी ऐफ in vitro fertilisation इलाज ऐवम ज्याँयट रिपलेसमैंट सर्जरी पर जानकारी दी। और बताया कि किस तलाह, कितने ही जटिल केस वाले भी रोगी लाभार्थी हुऐ। डा परमिँदर सिँह ने अपने लैकचर में बताया कि त्रुटिपूर्वक माहवारी वाली महिला में इनफर्टिलटी का पाया जाना स्वभाविक बात है, जबकि नौर्मल या सामान्य माहवारी वाली महिला को स्मान्यतः सँतान उत्पत्ति में कोई बाधा नहीं आती। इसी तरह वीर्य की नौर्मल रिपोर्ट वाले परुष इनफर्टिलटी का कारण नहीं होते। लेकिन त्रुटिपूर्वक वीर्य रिपोर्ट होने पर निष्कर्ष पर पहुँचने के लिये, गहन जाँच जरुरी है।


उन्होंनें अन्य हार्मोन्स में गडबडी के इलावा, थायरोयायड हार्मोन की कमी को का मुख्यता इनफर्टिलटी का कारण बताया व उसे सामान्य करने के लिये शीघ्रातिशीघ्र दवा शुरु करने का आह्वाण किया। डा सिँह ने सीनियर गायनेकौलोजिस्ट डाक्टरस् द्वारा उठाये गये सवालों का भी उत्तर दिया। इस पैनल डिस्कशन में डा शिवानी, डा सरोज अग्रवाल, डा सुनीता गोयल, डा वीनस बाँसल, डाडा हरमन सोबती ने भाग लिया। सभा में डा सुनील कटयाल, डा बिमल कानिष, डा धीरज अग्रवाल के नेतृत्व में सत्तासीन, आईऐमऐ लुधियाना की नई टीम को, डा मनोज सोबती व डा कर्मवीर गोयल, डा भुटानी व डा गुप्ता पुश्पगुच्छ देकर स्म्मानित किया। जालंधर के वरिष्ठ शिशू विशेषज्ञ डा ऐम ऐस भुटानी ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया, व आये हुऐ सभी डाक्टरों का धन्यवाद किया।