डेंगू की दहशत का न नगर निगम मेयर और न ही अधिकारीयों पर है कोई असर…

जालंधर(केतन शर्मा, मोहित गुप्ता)
शहर के लगभग सभी हिस्सों में पिछले काफी लम्बे समय से सफाई का सिस्टम लगभग ध्वस्त है। इसीलिए किशनपुरा से गुरु गोबिंद सिंह अवेनुए की आती भट्ठा रोड पर सीवरेज का गंदा पानी ओपन स्पेस में ठहरकर जहां सड़ने लगा है वहीं जमा पानी मच्छर भी उगल रहा है। यही कारण है कि अब लोगों को डेंगू का मच्छर होने का डर सताने लगता है, लेकिन नगर निगम शहर में मच्छरों की इस भरमार पर नियंत्रण करने में घोर लापरवाही कर रहा है। ऐसे में अब लोग इस बात से घबराने लगे हैं कि यदि समय रहते यहाँ सफाई व्यवस्था सही नहीं हुई और फॉगिंग जल्द ही नहीं करायी गयी तो वो कभी भी डेंगू की चपेट में आ सकते हैं।


लोगों का कहना है कि नगर निगम सफाई में ध्यान नहीं दे रहा है, इसलिए मच्छर बढ़ रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग भी डीडीटी छिड़काव के मामले में फिस्सडी नजर आ रहा है। मच्छरजनित संक्रामक बीमारियों के लिए ये दोनों ही विभाग जिम्मेदार हैं लेकिन एक-दूसरे पर जिम्मेदारी मढ़ रहे हैं। सफाई नहीं सुधरेगी तो डेंगू तथा अन्य बीमारियां फैलने की आशंका रहेगी। नगर निगम अफसरों का दावा है कि सफाई सुधार रहे हैं, स्वास्थ्य विभाग को भी सक्रिय होना चाहिए।