नशे के आदी लोगों के लिए संजीवनी साबित हो रहा है सिविल अस्पताल का नशा मुक्ति केंद्र

नशा मुक्ति सैंटर की प्रमुख डॉ.संजीव लोचन सैंटर सबंधी जानकारी देते हुए

फगवाड़ा ( दिनेश शर्मा, रमेश सरोया)
पंजाब सरकार द्वारा नशा मुक्त पंजाब के तहत पंजाब में काफी लम्बे समय से बह रहे 6वें दरिया का जड़मूल से अंत करने व पंजाब की युवा पीढ़ी को नशे के गर्त से बचाने के लिए किये जा रहे प्रयास काफी हद तक सफल होते हुए नज़र आ रहे हैं।
हलचल पंजाब की टीम ने जब पंजाब सरकार द्वारा फगवाड़ा सिविल अस्तपताल में चलाये जा रहे नशा मुक्ति केंद्र का विशेष दौरा कर सारे हालात का जायजा लिया। टीम ने पाया की नशा मुक्ति केंद्र में दाखिल युवकों की सुविधा हेतु बढ़िया साफ सुथरा माहौल और समय-2 पर दवाई व उनके खाने पीने की व्यवस्था का पूरा ध्यान रखा जाता है। नशा मुक्ति सैंटर की प्रमुख डॉ.संजीव लोचन ने बताया कि वह सैंटर को ईमानदारी के साथ चलाने में विश्वास रखतीं हैं। दवाइयों के बारे में जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि जब से उन्होंने सैंटर का चार्ज संभाला है, उस वक्त से लेकर नशा मुक्ति की दवाइयाँ की कमी आने से पहले ही वह अगली दवाई मंगवा देती हैं ताकि किसी को भी परेशानी न हो सक । डॉ. के अनुसार 2018 जनवरी से दिसम्बर तक ओ पी डी पेशैंट संख्या 3565 तथा इनडोर पेशैंट 214 का ईलाज किया गया और जनबरी 2019 से मई 2019 तक 2960 मरीज ओ पी डी और इन डोर पेशैंट 208 का ईलाज किया गया। मरीजों में 845 के करीब नाम दर्ज़ कर उन्हें दवाई दी जा रही है। उन्होंने बताया कि काउंसिलिंग के बाद मरीजों को दवा के जरिये नशे से मुक्ति दिलाने का प्रयास किया जा रहा है। डॉ. संजीव ने युवाओं को सन्देश देते हुए कहा है कि वह नशे से दूर रहें और अपने अनमोल जीवन को संभाल कर एक अच्छे चरित्र का निर्माण कर जीवन में सफलता हासिल करें।