नागरिकता संशोधन अधिनियम के समर्थन मे हज़ारों की संख्या मे समाज के सभी वर्गों ने भरी हुंकार

आज नगर के सामाजिक, धार्मिक, व्यापारिक, विद्यार्थी व समाज के सभी वर्गों के लोगों और संगठनों के लोगो ने लोक जागरण मंच द्वारा नागरिकता संशोधन विधेयक-2019 के समर्थन में आयोयित जन रैली मे हज़ारों की संख्या मे हुंकार भर शहर के अलग अलग इलाक़ों के लोगो ने सी.ए.ए.के पक्ष मे मार्च निकाला जो कंपनी बाग चौक आकर सम्पन हुआ। इस कार्यक्रम मे संत गुरविंदर सिंह जी (निर्मल आश्रम), भारतीय महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी राजबीर कौर, पूनम भारद्वाज, बलराज शर्मा, उद्योगपति अजय गोस्वामी विशेष रूप से उपास्थित हुए। कंपनी बाग चौक मे कार्यक्रम के दौरान भारी संख्या मे एकत्रित लोगो ने सी.ए.ए.के समर्थन में वंदेमातरम, भारत माता की जय के नारे लगाए।
लोक जागरण मंच की ओर से आयोजित रैली को संबोधित करते हुए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के प्रांत संगठन मंत्री राहुल ने कहा कि विधेयक का विरोध करने वालों विशेषकर कांग्रेस पार्टी को तुष्टिकरण की नीति छोड़ कर पाकिस्तान, अफगानिस्तान व बंगलादेश से आए प्रताडि़त व दुखी हिंदू-सिखों की चिंता करनी चाहिए। इसी मुस्लिम तुष्टिकरण की पुरानी नीति का अनुसरन करते हुए कांग्रेस पार्टी खिलाफत आंदोलन के समर्थन की सौ साल पुरानी वही गलती दोहरा रही है जिसने देश विभाजन के बीज बोए थे। उन्होंने कहा कि देश के किसी वर्ग को गलत तथ्य पेश कर भडक़ाना व भरमाना न तो देश के हित में और न ही उस वर्ग विशेष के।
श्रीराम चौक में हुई रैली के दौरान विद्यार्थी नेता राहुल ने ननकाना साहिब में हुई गुरुद्वारा साहिब पर हमले की घटना का उदाहरण देते हुए कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक ननकाना की बेटी प्रताडि़त बेटी गुरजीत कौर को परिवार सहित भारत की नागरिकता के अधिकार की बात करता है परंतु कांग्रेस की मांग मानी जाए तो हमें गुरुद्वारा साहिब पर हमला करने वालों को भी नागरिकता देनी पड़ सकती है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने बड़ी सूझबूझ से ऐसा विधेयक पारित किया है जो हमारे आसपास के इस्लामिक गणराज्य पाकिस्तान, अफगानिस्तान व बंगलादेश से धर्म के आधार पर सताए हुए हिंदू, सिख, जैन, बौध, इसाई, पारसी समाज को भारत की नागरिकता प्रदान करता है ताकि वे अपने आगे का जीवन निर्भय हो कर जी सकें और जीवन में आगे बढ़ सकें। उन्होंने कहा कि यह भी नहीं कि यह काम पहली बार किया गया है। इससे पहले कांग्रेस की ही सरकारों व कांग्रेस नेतृत्व वाली सरकारों के ही प्रधानमंत्रियों पंडित जवाहर लाल नेहरू, श्री राजीव गांधी, श्री नरसिम्हाराव, डा. मनमोहन सिंह ने ऐसा किया है। श्री राहुल ने कहा कि समाज में यह कह कर भी कांग्रेस भ्रम पैदा कर रही है कि इन देशों से हिंदू-सिखों को लाकर भारत सरकार अपने यहां बसाना चाहती है, जबकि सच्चाई यह है कि 31 दिसंबर, 2014 तक आ चुके इन वर्गों के शरणार्थियों को नागरिकता की शर्तों में छूट दी जा रही है।


रैली को एडवोकेट पंकज शर्मा ने भी संबोधित किया और कहा कि इस विधेयक से देश के किसी भी नागरिक को भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने देश के नागरिकों विशेषकर मुस्लिम समुदाय से अपील की है कि वे उन लोगों के झांसे में न आएं जो अभी तक उनका प्रयोग केवल और केवल वोटबैंक के रूप में करते रहे हैं। यह विधेयक किसी की नागरिकता छीनता नहीं बल्कि पड़ौसी देश के दुखी अल्पसंख्यकों को न्याय देने के लिए पारित किया गया है।रैली को राज कुमार चौधरी,राजीव शर्मा सहित अनेक वक्ताओं ने भी संबोधित किया और सरकार द्वारा प्रताडि़त व दुखी हिंदू सिखों को दी जाने वाली राहत की सराहना की। रैली में जुटे लोगों ने शहर में मार्च भी निकाला और सीएए के पक्ष में नारेबाजी की।इस कार्यक्रम के दौरान मंच का संचलन सुशील सैनी ने किया जिसके बाद अंत मे आए हुए सभी संगठनों एवं कार्यकर्ताओं का मुरली वधवा ने धन्यवाद किया।