पंजाब सरकार खुद अदा करे प्राइवेट स्कूलों के बच्चो की फीस :प्रदीप खुल्लर

जालंधर(विनोद मरवाहा)
भारतीय जनता पार्टी के कर्मठ कार्यकर्ता एवं समाज सेवक प्रदीप खुल्लर ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह जी पंजाब के शिक्षा मंत्री माननीय श्री विजय इंदर सिंगला जी एवं पंजाब के शिक्षा सचिव आ.ऐ.एस श्री कृष्ण कुमार जी को एक पत्र लिखा इस पत्र में भाजपा नेता प्रदीप खुल्लर ने ग्राउंड जीरो की रिपोर्ट पंजाब सरकार को भेजी प्रदीप खुल्लर ने बताया कि सरकार ने आदेश जारी किए हैं कि इस क्रोना संकट में इस लॉक डॉन के अंदर स्कूलों कॉलेजों को खोलने की कोई इजाजत नहीं है पर बच्चों के भविष्य को देखते हुए उन्हें ऑनलाइन पढ़ाई करवाई जाएगी। जिससे बच्चे पढ़ सके।साथ में सरकार ने यह भी आदेश जारी किए हैं कि कोई भी प्राइवेट स्कूल किसी भी तरह का नाजायज खर्चा बच्चों के मां बाप से नहीं ले सकेगा और सिर्फ टीवेशन फीस ही बच्चो से ले सकेंगे पर प्राइवेट स्कूल ट्यूशन फीस के नाम पर पूरे पूरे महीने की फीस मां बाप को अदा करने के लिए बोल रहे हैं यह सरासर अन्याय है और प्राइवेट स्कूलों की मनमर्जी चल रही है।पूरे स्टेट में प्रदीप खुल्लर यह भी बोला कि कि मुझे पता है कि बंद पड़े स्कूलों के भी बहुत से खर्चे हैं। उन खर्चों को मद्देनजर रखते हुए पंजाब सरकार सभी प्राइवेट स्कूलों की फीस अपने खजाने से अदा करें जा फिर स्कूलों को कहें कि जितनी भी फीस बचो से ली जाती है जा थी उसमें से लगभग 75% फीस स्कूल कटौती करें और सिर्फ 25% फीस ट्यूशन फीस के नाम पर ले। ताजो की स्कूल का कार्य खर्चे भी चल सके और इस कोरोना महामारी संकट में बच्चों के मां-बाप के आर्थिक हालात भी सुधर सके। बच्चों के मां-बाप एवं स्कूल के बीच सरकार को सेतु बन के काम करना चाहिए जिससे आने वाला कल बहुत खुशहाल हो सके। प्रदीप खुल्लर ने मुख्यमंत्री,शिक्षा मंत्री, एवं शिक्षा सचिव को जे भी बताया कि इस समय लोगो के हालात इतने खस्ता हो चुके है कि व घरो का गुजारा करने भी बहुत कठनाई आ रही है। इस माहौल में स्कूलों की मनमर्जी एवं स्कूलों की फीस का नजायज बोझ कैसे जेलेगे। इस लिए सरकार कोई ठोस कदम उठाए और मदद करे।