भारतीय स्टेट बैंक की जी.टी.बी.नगर स्थित समृद्धि शाखा ने बैंक ग्राहकों को योनो ऐप सबंधी दी जानकारी

योनो एप से किसी भी प्रकार की धोखाधड़ी नहीं हो सकती : पवन कुमार बस्सी
जालंधर(अमित शर्मा))
देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) द्वारा लांच योनो एप (यू ऑनली नीड वन) सबंधी जानकारी देने के उद्देश्य से बैंक की जी.टी.बी.नगर स्थित समृद्धि शाखा के बाहर एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर एप सबंधी सभी विशेषताएं बताई गई और बैंक के ग्राहकों को इस ऐप को डाउनलोड करवा कर इसके फायदे भी बताएं गए।
इस अवसर पर शाखा प्रबंधक पवन कुमार बस्सी ने बताया कि योनो (यू ओन्ली नीड वन) एसबीआई का डिजिटल ऐप है, जिसके जरिये एसबीआई की कई सुविधाओं का बड़ी आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है क्योंकि बैंक का सभी ग्राहकों को एक ही पोर्टल पर कई सर्विसेज दी गई हैं। उन्होंने बतया कि
इस एप से ग्राहक घर बैठे ही अपने सारे खाते की जानकारी आसानी से ले सकते हैं। इसके अलावा योनो कैश के नए फीचर से बिना अपना एटीएम कार्ड उपयोग किए एसबीआई के एटीएम से 10000 रुपए एक बार में और अधिकतम 20000 रुपए एक दिन में निकाल सकते हैं। श्री बस्सी ने बताया कि इस एप का प्रयोग करने से जहां किसी भी प्रकार की भी धोखाधड़ी नहीं हो सकती वहीं बैंक के ग्राहकों को विशेष सुविधा भी मिलेगी।
उन्होंने बताया कि इसकेअतिरिक्त ग्राहक घर बैठे ही इस एप से पर्सनल लोन, हाउस लोन, कार लोन और एजुकेशन लोन का आवेदन कर सकते हैं। इसके साथ साथ फिक्स्ड डिपोसिट और आर.डी.खाते भी खोल सकते हैं। नई चेक बुक और एटीएम के लिए भी अप्लाई किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि सरकार ने देश में डिजिटल अर्थव्यवस्था बनाने के लिए कई पहल की हैं और एसबीआई की इस पहल से डिजिटल अर्थव्यवस्था बनाने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि इससे ग्राहकों को सहायता मिलेगी और उनके लिए बैंकिंग सेवाएं पहले से भी कहींअधिक आसान हो जाएंगी। एप की इन विशेषताओं को जानकार ग्राहकों में काफी उत्साह देखने को मिला और उन्होंने एप की खुलेदिल से सराहना की।
इस अवसर पर भारतीय स्टेट बैंक के नरेंद्र कुमार, संजय पांडे, अंकुश गोयल, जसवीर सिंह, पल्लवी, ममता, ललित भगत एवं पुनीत सहित बैंक के सम्म्मानीय ग्राहक सुशील छाबड़ा, सुखविंदर सिंह, वरिंदर कुमार, देवेंद्र अरोड़ा आदि ने भाग लिया।

Please select a YouTube embed to display.

The request cannot be completed because you have exceeded your quota.