रिफ्रैंडम 2020 के जरिए खालिस्तान के प्रचार पर रोक लगाने में सरकार असफल- शिव सेना पंजाब

लुधियाना(राजम मेहरा )शिव सेना पंजाब ने आज साफ किया कि रिफ्रैेंडम 2020 के नाम पर खालिस्तान का प्रचार लगातार बढ़ता जा रहा है तथा विदेशों से हो रहे इस प्रचार से पंजाब में युवा पीढ़ी पथ भ्रमित होकर फिर एक बार उसी ओर अग्रसर हो रही है, जिससे लौटने के पंजाब को 45000 से उपर निर्दोषो की कुर्बानी देनी पड़ी थी। सेना के प्रदेश सचिव रितेश राजा ने कहा कि केंद्र व प्रदेश सरकार इस प्रचार को रोकने से असफल रही है जिसका खमियाजा पंजाब के आने वाले दिनों में भुगतना पड़ सकता है। उन्होंने अमनीत कौंडल,नितिश नारंग,अश्वनी चोपड़ा की उपस्थिति में इस रुझान पर गहरी चिंता का प्रक्टावा करते कहा कि सरकार को शायद नजर ही नही आ रहा कि खालिस्तानी ताकते सिर उठा रही है,जिनको सख्ती से निपटने के अवश्यकता है।
रितेश राजा ने कहा कि पंजाब में धड़ाधड़ हथियारो का पकड़े जाना तथा इन हथियारों का खालिस्तानी समर्थको की हाथों में पहुंचना आखिर क्या साबित करता है। मध्य प्रदेश के आर्मी सैंटर से हथियार चुराने वाले खालिस्तानी समर्थक का उदाहण देते उन्होंने कहा कि पकड़े गए आतंकी सरेआम हिंदू नेताओं को निशाना बनाने की बात करते है पर सरकार का इस ओर कोई ध्यान नही है। आतंकवाद के खिलाफ छाती ठोक कर उसका मुकाबला करने वाले हिंदू नेताओं की जान तो दांव पर लगाकर सरकार गर्मपंथीयों को खुश करने के लिए उनकी सुरक्षा में कटौती कर रही है तथा जिनको धमकीयां मिल रही है,उनको सुरक्षा नही दी जा रही। जबकि सरकार के पिट्ठू सुरक्षा दस्तों में मौैज मस्ती कर रहे है। राजा ने कहा कि सरकार खालिस्तानी ताकतों को सख्ती से निपटने के साथ साथ हिंदू नेताओं की सुरक्षा की तरफ भी ध्यान दे। सुरक्षा रिव्यू के नाम पर सुरक्षा कटौती संबंधी सरकार की नीति खतरनाक है। यदि किसी हिंदू नेता का नुकसान हुआ तो सीधे सीधे पंजाब सरकार जिम्मेवार होगी।