‘शुगर की बीमारी में नपुंसकता’ विषय पर एक सेमिनार का आयोजन

लुधियाना(राजन मेहरा)
नेशनल इंटीग्रेटेड मेडिकल एसोसिएशन एवं डॉक्टर मणिकांत सिंगला एंडो कंसल्ट ने संयुक्त रूप से ‘शुगर की बीमारी में नपुंसकता’ विषय पर एक सेमिनार का आयोजन किया। डॉक्टर मणिकांत सिंगला मुख्य वक्ता के तौर पर उपस्थित थे। डॉ राजेश थापर एवं डॉक्टर रविंद्र बजाज क्रमशः प्रधान एवं विशेष सलाहकार ने बताया कि इस विषय पर बहुत कम चर्चा हुई है लेकिन यह फैमिली डॉक्टर के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। बेशक शुगर तथा नपुंसकता अलग अलग स्थितियां हैं लेकिन शुगर के रोगियों में विशेषकर टाइप 2 के रोगियों में आम देखी जा सकती है । इसका मुख्य कारण नाड़ियों एवं रक्त वाहनियों का कमजोर होना होता है। लंबे समय तक शुगर का स्तर कंट्रोल में ना रहना इसका मुख्य कारण देखा गया है।
अतिथि वक्ता डॉक्टर मणिकांत सिंगला के अनुसार 35 से 75 प्रतिशत पुरुष जो शुगर से ग्रसित हैं जिंदगी में नपुंसकता का सामना करते ही हैं। शुगर के रोगी आम पुरुषों की तुलना में 10 से 15 वर्ष पहले ऐसी समस्याओं का शिकार हो जाते हैं। विश्व में शुगर के रोगियों की संख्या बढ़ने के साथ साथ नपुंसकता के रोगी भी बढ़े हैं। डॉक्टर सिगंला के अनुसार विज्ञान ने काफी तरक्की कर ली है, इसलिए अब इसको हऊआ नहीं मानना चाहिए। जरूरत है सही समय पर सही इलाज करवा कर पारिवारिक जीवन का आनंद उठाना। डॉक्टर सिंगला ने कहा इसके लिए खाने वाली दवाई तथा अन्य उपचार उपलब्ध है लेकिन खाने वाली दवाई बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं खानी चाहिए क्योंकि देखा गया है के शुगर के रोगियों में उच्च रक्तचाप तथा हृदय की बीमारियों से ग्रस्त होने की शंका रहती है तथा नपुंसकता तथा हृदय की बीमारियों की दवाइयों का कभी-कभी आपस में तालमेल नहीं बैठता जो कई बार घातक परिणाम भी दिखा सकती है।
सीनियर फिजीशियन तथा स्टेट अवॉर्डी डॉक्टर सतेंदर कक्कड़ एवं सचिव डॉक्टर रणवीर सिंह ने बताया कि जीवनशैली में बदलाव करके शुगर को तथा नपुंसकता को काबू में किया जा सकता है। आहार-विहार द्वारा, शराब सिगरेट का प्रयोग बंद करके, पूरी निद्रा लेकर, जीवन में सक्रिय एवं चिंता रहित होकर शुगर तथा नपुंसकता को कंट्रोल किया जा सकता है।
डॉक्टर नीरज अग्रवाल ऑर्गेनाइजिंग सचिव नीमा ने बताया कि नीमा के मेंबर्स की 10 क्लिनिक्स पर निशुल्क शुगर चेकअप कैंप भी लगाए गये, जिससे सैकड़ों व्यक्तियों को फायदा हुआ।
इस अवसर पर डॉक्टर आरके गर्ग, डॉ नवनीत सागर, डॉक्टर बावा, डॉक्टर जी बी खंगुड़ा, डॉक्टर जसप्रीत, डॉक्टर पी पी सिंह, डॉ एम के कपूर, डॉ रमित कपूर, डॉक्टर पंकज, डॉक्टर अशोक सिंगला, डॉ विपुल मल्होत्रा, डॉक्टर गजाला कादरी, डॉक्टर ज़फर ज़ाहिर , डॉक्टर पंकज एवं डॉ गुरप्रीत सिंह विशेष तौर पर हाजिर हुए।

Please select a YouTube embed to display.

The request cannot be completed because you have exceeded your quota.