सभी केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) कैंटीन अब केवल स्वदेशी उत्पाद बेचेंगे

जालंधर (योगेश कत्याल)
गृह मंत्रालय ने फैसला किया है कि सभी केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) कैंटीन अब केवल स्वदेशी उत्पाद बेचेंगे। यह 1 जून 2020 से पूरे देश में सभी सीएपीएफ कैंटीनों पर लागू होगा। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को घोषणा की कि सीआरपीएफ और बीएसएफ जैसे केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) की सभी कैंटीन 1 जून से केवल स्वदेशी उत्पाद बेंचेगी। इससे 10 लाख सीएपीएफ कर्मियों के करीब 50 लाख परिजन स्वदेशी उत्‍पादों का उपयोग करेंगे। अमित शाह ने ट्वीट की एक सीरीज में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा स्थानीय उत्पादों को चुनने और आत्मनिर्भर होने की अपील के बाद गृह मंत्रालय द्वारा यह निर्णय लिया गया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने देश के लोगों से देश में बने उत्पादों का अधिकतम उपयोग करने की अपील की और दूसरों को भी ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करने को कहा है।
सीएपीएफ, सीआरपीएफ, बीएसएफ, सीआईएसएफ, आईटीबीपी, एसएसबी, एनएसजी और असम राइफल्स – कैंटीन मिलकर लगभग 2,800 करोड़ रुपये सालाना के उत्पाद बेचती हैं। देश को आत्मनिर्भर बनाने और भारत में बने उत्पादों का उपयोग करने के लिए मंगलवार को पीएम मोदी द्वारा की गई अपील का जिक्र करते हुए शाह ने कहा कि यह निश्चित रूप से भारत को भविष्य में दुनिया का नेतृत्व करने का मार्ग प्रशस्त करेगा। अगर हर भारतीय भारत (स्वदेशी) में बने उत्पादों का उपयोग करने की प्रतिज्ञा करता है, तो देश पांच साल में आत्मनिर्भर बन सकता है।