भजन का सहारा लें, परिवर्तन से न हों विचलित: श्री-श्री 108 स्वामी सिकंदर जी

जालंधर(विनोद मरवाहा) भजन ही सत्य है। परिवर्तन संसार का नियम है। इसलिए भजन का सहारा लें और परिवर्तन से विचलित

Read more