दूसरे का दुख दूर करने वाला ही सच्चा वैष्णव और मां भक्त : स्वामी सिकंदर

जालंधर(विनोद मरवाहा)
अखिल भारतीय दुर्गा सेना संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री श्री 108 महाराज स्वामी सिकंदर की अध्यक्षता में दोमोरिया पुल नजदीक प्राचीन शिव मंदिर में आज साप्ताहिक मां बगलामुखी हवन यज्ञ का आयोजन किया गया। साधकों द्वारा बारी-बारी वेद मंत्रों के साथ हवन यज्ञ में आहुतियां डाल मां बगलामुखी जी का आशीर्वाद प्राप्त किया।
हवन यज्ञ में शामिल हुए अखिल भारतीय दुर्गा सेना संगठन के संस्थापक एवं संचालक श्री श्री 108 महाराज स्वामी सिकंदर ने भक्तों को आशीर्वाद देते हुए कहा कि सच्चा वैष्णव व मां भक्त वही होता है, जो दूसरे का दुख दूर करे। श्री स्वामी जी ने कहा कि धार्मिक शास्त्रों में लिखी बातों की आज भी उतनी ही प्रासंगिकता है जितनी उस समय थी। जरूरत उन सभी बातों को समझने मात्र की है।

श्री स्वामी जी के अनुसार हर किसी के जीवन की यही मयार्दा होनी चाहिए कि वह अनासक्त भाव से ही सुखोपभोग करते हुए दूसरों की सहायता करे। इसके साथ ही गो सेवा, संत सेवा, बड़ों का आदर आदि भी आवश्यक है। उन्होंने कहा कि दूसरों के धन पर भूल से भी नजर नहीं गड़ानी चाहिए और देव धन अथवा संत धन हड़पने का प्रयास किसी भी रूप में नहीं करना चाहिए। इसी प्रकार विद्या का उपयोग केवल धनोपार्जन के लिए ही नहीं, अपितु अन्य किसी को ज्ञान देने के लिए भी अति जरूरी है।

इस अवसर पर विशेष रूप से उपस्थित गुरु मां नीरज रतन सिकंदर ने कहा कि जीवात्मा जब ईश्वर को भूल जाता है, तब उसके लिए ईश्वर भी अपना ईश्वरत्व अलग रख देते हैं। ऐसे में सच्चे गुरु का सानिध्य ही अज्ञान मिटाकर विज्ञान भरता है और इस प्रकार मुक्ति का मार्ग प्राप्त होता है।
इस अवसर पर मोहित जैन, सतपाल, किशन लाल, पवन ढोल वाला, विशाल शर्मा, वैभव शर्मा, अमित गुप्ता, राकेश महाजन, अश्वनी यादव, राजू शाम चौरासी, शंकर दास, याशिक कालिया, सुशील मल्होत्रा, बबलू शर्मा, अनूप शर्मा, मोहित गांधी, रोहित जैन, लक्ष्मी शर्मा, पूजा शर्मा व लीना महाजन सहित धर्म प्रेमी काफी संख्या में विशेष तौर पर उपस्थित थे।

 

Please select a YouTube embed to display.

The request cannot be completed because you have exceeded your quota.

11 thoughts on “दूसरे का दुख दूर करने वाला ही सच्चा वैष्णव और मां भक्त : स्वामी सिकंदर

Comments are closed.