डूबे कर्ज की वसूली पर नया कानून, आरबीआइ लेगा एक्शन

नयी दिल्ली (हलचल नेटवर्क)
केंद्रीय कैबिनेट ने सार्वजनिक बैंकों में एनपीए की बढ़ती समस्या से निबटने के लिए बैंकिंग नियमन कानून में संशोधन के अध्यादेश को बुधवार को हरी झंडी दे दी. इसे मंजूरी के लिए राष्ट्रपति के पास भेजा है.
इस अध्यादेश के जरिये बैंकिंग नियमन कानून की धारा 35 -ए में संशोधन का प्रस्ताव है.
इस संशोधन के बाद रिजर्व बैंक ऋण चूककर्ताओं से कर्ज की वसूली के लिए बैंकों को निर्देश जारी कर सकेगा. अध्यादेश से आरबीआइ के अधिकार में और बढ़ोतरी होगी. वह एनपीए से संबंधित व्यक्ति या कंपनी के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का निर्देश बैंकों को दे सकेगा. इस तरह बैंकों से लोन लेकर नहीं लौटाने वाले उद्योगपतियों व लोगों के खिलाफ कार्रवाई का रास्ता साफ हो सकेगा.
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को कोई ब्योरा दिये बिना कहा कि कैबिनेट ने बैंकिंग क्षेत्र के संदर्भ में कई महत्वपूर्ण फैसले लिये हैं. राष्ट्रपति की मंजूरी मिलते ही इसका ब्योरा साझा किया जायेगा. मालूम हो कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का डूबा कर्ज या एनपीए छह लाख करोड़ रुपये के भारी-भरकम आंकड़े पर पहुंच चुका है.

Please select a YouTube embed to display.

The request cannot be completed because you have exceeded your quota.

One thought on “डूबे कर्ज की वसूली पर नया कानून, आरबीआइ लेगा एक्शन

Comments are closed.