चरमराई सफाई व्यवस्था,परेशान पार्षद और वार्डवासियों ने खुद थामी झाड़ू,स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.श्री कृष्ण पर भेदभाव करने का आरोप

 जालंधर(विनोद मरवाहा)
वार्ड नंबर 78 के पार्षद जगदीश समराय द्वारा क्षेत्र की सफाई के लिए लगातार गुहार लगाने के बाद जब नगर निगम में कोई सुनवाई नहीं हुई तो पार्षद और वार्डवासियों ने खुद झाड़ू थाम सफाई अभियान में जुट गए।
पार्षद ने निगम प्रशासन को आइना दिखते हुए कहा कि वे लगातार चार महीने से नगर निगम में वार्ड-78 में सफाई कर्मचारी देने की मांग कर रहे हैं। 15 दिन पहले उन्हें सिर्फ 1 कर्मचारी मिला, उसकी मदद से वे पूरे वार्ड में सफाई कैसे करा पाते।लोगों ने बताया कि ये वार्ड पूरी तरह विकसित नहीं हुआ है। उनका वार्ड न्यू रतन नगर, बाबा कामदास नगर, गुरुनानक नगर, न्यू गुरुनानक नगर क्षेत्र हैं ऐसे में सफाई की सबसे ज्यादा समस्या इस वार्ड में है।

इसके बावजूद उनके साथ निगम के अधिकारी अनदेखी कर रहे हैं, जो अन्यायपूर्ण है। पार्षद समराए ने कहा कि रिकार्ड में उनके वार्ड में 9 सफाई सेवक आ रहे हैं, लेकिन मौके पर एक ही आ रहा है। ऐसे में निगम के स्वास्थ्य अधिकारी को यह जवाब देना चाहिए कि आखिर बाकी 8 सफाई सेवक कहां जा रहे हैं? उन्होंने क्षेत्र के लोगों को चार महीने में घर-घर जाकर प्रेरित किया है, उन्हें इस बात के लिए तैयार कर लिया है कि वे कूड़ा कूड़ेदान में ही डालें। इसके लिए निगम से 20 डस्टबिन पूरे वार्ड के लिए मांगी है, लेकिन डस्टबिन भी अभी तक उन्हें नहीं मिली है। पार्षद जगदीश समराए का कहना है कि जब नगर निगम के अधिकारियों ने सफाई सेवकों का पूरे शहर के लिए बंटवारा किया था तब जो सूची तैयार की गई थी, उसमें वार्ड-78 के हिस्से में 5 सफाई सेवक दर्ज किए गए थे।

जब उन्होंने सेनेटरी इंस्पेक्टर से इतने कम सफाई सेवकों के संबंध में पूछा तो उन्होंने बताया गया कि उनके वार्ड को पांच नहीं 9 सफाई सेवक मिले हैं, लेकिन उनमें से भी अभी तक सिर्फ 15 दिन से एक सफाई सेवक ही आ रहा है। बाकी 8 कहां जा रहे हैं, कुछ पता नहीं। 1पार्षद का कहना है कि इस संबंध में उन्होंने स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.श्री कृष्ण से बात की तो कोई संतोषजनक उत्तर नहीं मिला है। उनका वार्ड न्यू रतन नगर, बाबा कामदास नगर, गुरुनानक नगर, न्यू गुरुनानक नगर क्षेत्र हैं।

5 thoughts on “चरमराई सफाई व्यवस्था,परेशान पार्षद और वार्डवासियों ने खुद थामी झाड़ू,स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.श्री कृष्ण पर भेदभाव करने का आरोप

Comments are closed.