1400 किलोमीटर की दूरी तय करने में इस ट्रेन को लगे चार साल, इस मालगाड़ी में था लगभग 10 लाख रुपये का सामान

नई दिल्ली (हलचल नेटवर्क)
भारतीय ट्रेनों की लेटलतीफी से तो हर कोई वाकिफ है, लेकिन यह किस्सा वाकई हैरान कर देने वाले हैं. हाल ही में भारतीय रेलवे की एक मालगाड़ी को अपने गंतव्य स्थान पर पहुंचने में लगभग 4 साल का समय लग गया. इस खबर को सुनने के बाद हर कोई हैरान है.
टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित खबर के मुताबिक, 2014 में एक मालगाड़ी रवाना तो हुई, लेकिन वह बीच रास्ते में कहीं ‘गायब’ हो गई. वहीं, इस मामले पर रेलवे का कहना है कि ‘जब कोई वैगन या बोगी जर्जर हो जाती है तो उसे यार्ड में भेज दिया जाता है, कुछ ऐसा ही इस ट्रेन के साथ भी हुआ होगा. हालांकि स्पष्ट रूप से कुछ बोलने के लिए अधिकारी भी बच रहे हैं. बता दें कि विशाखापत्तनम से बस्ती तक की दूरी लगभग 1400 किलोमीटर है.
बस्ती जिले में मची खलबली
जैसे ही ये मालगाड़ी बस्ती जिले के रेलवे स्टेशन पर पहुंची, वहां के अधिकारियों में इसको लेकर खलबली सी मच गई. जानकारी के मुताबिक, इस मालगाड़ी में लगभग 10 लाख रुपये का सामान था, लेकिन उसका मालिक कौन है और ये ट्रेन यहां पर कैसे पहुंची, इसको लेकर हर कोई हैरान था. गाड़ी के स्टेशन पहुंचने के बाद संबंधित रेलवे अधिकारी को सूचित किया गया.
मालगाड़ी में रखी खाद हो चुकी है बेकार
रिपोर्टस के मुताबिक, इतने वक्त के बाद जब मालगाड़ी की तलाशी ली गई तो पता चला कि उसमें खाद है. हालांकि लगभग 50 फीसदी से ज्यादा खाद खराब हो चुकी थी. खाद की दशा खराब होने के बाद भी इंडियन पोटाश लि. इसपर दावेदारी कर रही है.

Please select a YouTube embed to display.

The request cannot be completed because you have exceeded your quota.